Bridge Development Stopped: फंडिंग की कमी से रुका पुल निर्माण का काम, लोग नाराज...

Jammu and Kashmir: अखल पुल को बनाने के लिए साल 2008 में मंजूरी दी गई थी. इस लिहाज से पिछले 15 साल से ये पुल पूरा होने का इंतज़ार कर रहा है. सरकार ने साल 2018 में अखल पुल को पेंडिंग प्रोजेक्ट्स की लिस्ट में शामिल किया था. हालांकि, पुल के निर्माण कार्य में अभी भी देरी हो रही है

Bridge Development Stopped: फंडिंग की कमी से रुका पुल निर्माण का काम, लोग नाराज...

Ganderbal: गांदरबल के कंगन इलाके में दर्जनों गांवों को जोड़ने वाला अखल पुल की तामिर में ताख़ीर होने से मक़ामी लोगों में बेहद नाराज़गी है. पुल की तामिर बरसों से चल रही है जो अबतक मुकम्मल नही हो पाई है. लोगों ने बताया की इसकी वजह से उन्हें रोज़ाना काफी सारी परेशानियों का सामना करना पड़ता है. पुल न होने से लोगों को आरज़ी और गैरमहफूज़ पुल से गुज़रना पड़ता है क्योंकि उनके पास कोई ऑप्शन नही है. 

लोगों का कहना है कि इस बात की शिकायत कई बार इंतज़ामिया से की जा चुकी है. लेकिन उनकी तरफ से अबतक कोई सटीक जवाब नही मिला है. लोगों ने कहा कि इमरजेंसी में,  खासकर मरीज़ों को इससे काफी परेशानी होती है. ऐसे में एक बार फिर से लोगों ने इंतज़ामिया से अपील की है वो इस मामले पर फ़ौरी तवज्जो दें और पुल का काम मुकम्मल करें. ताकि लोगों को परेशानी का सामना न करना पड़े. हालांकि अफसरानों का कहना है कि फंडिंग की कमी की वजह से पुल का निर्माण काम रुका हुआ है. 

बता दें कि अखल पुल को बनाने के लिए साल 2008 में मंजूरी दी गई थी. इस लिहाज से पिछले 15 साल से ये पुल पूरा होने का इंतज़ार कर रहा है.  सरकार ने साल 2018 में अखल पुल को पेंडिंग प्रोजेक्ट्स की लिस्ट में शामिल किया था. हालांकि, पुल के निर्माण कार्य में अभी भी देरी हो रही है और वजह ये सामने आई है कि एक्सिक्यूटिंग एजेंसी को कागजी कार्रवाई करने में समय लग रहा है इसलिए पुल का काम रूका हुआ. 

अब वजह चाहे जो हो लेकिन हैरानी की बात ये है कि ये पुल कंगन इलाके में दर्जनो गांव की कनेक्टिविटी का एक मात्र जरिया है और फिर भी इंतज़ामिया इसको लेकर कोई ठोस कदम नही उठा रहे हैं. खुदा न खास्ता अगर कोई बड़ा हादसा हो जाए तो. ऐसे में उम्मीद की जा सकती है कि मक़ामी लोगो की शिकायतों पर इंतज़ामिया जल्द से जल्द गौर करे और इस पुल की मरम्मत  जल्द से जल्द  कराएं.

Latest news

Powered by Tomorrow.io