Gulmarg: गुलमर्ग में बीती रात थी सीज़न की सबसे सर्द-तरीन, श्रीनगर का पारा बढ़ा...

Coldest Night of the season: मौसम विभाग के मुताबकि आने वाली 22 दिसंबर तक मौसम नॉर्मल रहेगा. लेकिन 23 दिसंबर को बादल छाए रहे सकते हैं जिनकी वजह से घाटी के ऊपरी इलाकों में हल्की बारिश देखी जा सकती है. जिसका बाद 24-28 दिसंबर तक का मौसम नॉर्मल रहने वाला है.

Gulmarg: गुलमर्ग में बीती रात थी सीज़न की सबसे सर्द-तरीन, श्रीनगर का पारा बढ़ा...

Jammu and Kashmir: कश्मीर घाटी में जहां श्रीनगर और बाकि हिस्सों में बीती रात पारा बढ़ गया. वहीं, कश्मीर के मशहूर हिल स्टेशन गुलमर्ग ने सीज़न की सबसे सर्द-तरीन रात का तजुर्बा किया. जहां पारा माइनस -8.0°C दर्ज किया गया. 

मौसम विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि श्रीनगर में जहां रविवार रात मिनिमम टेम्परेचर 0.5°C दर्ज किया गया, जोकि एक रात पहले -0.5°C था. उन्होंने बताया कि बीती रात दर्ज किया गया ये टेम्परेचर श्रीनगर के औसतन तापमान से 2.0°C ज्यादा था. 
  
यही हाल काज़ीगुंड में भी देखा गया. जहां, शनिवार रात मिनिमम टेम्परेचर 0.0°C दर्ज किया गया थो. जो बाद में रविवार रात बढ़कर 0.8°C तक पहुंच गया. अधिकारियों के मुताबिक बीती रात दर्ज किया गया मिनिमम टेम्परेचर कश्मीर के गेटवे टाउन- काज़ीगुंड के औसतन टेम्परेचर 1.6°C ज्यादा था.

पहलगाम में भी बीती रात पारा औसतन टेम्परेचर से 1.4°C कम रहा. रविवार रात पहलगाम का पारा -5.8°C दर्ज किया जोकि शनिवार को -1.5°C था. 

वहीं, साउथ कश्मीर के कोकेरनाग का मिनिमम टेम्परेचर 1.1°C रहा जोकि शनिवार रात -0.8°C था. रविवार रात दर्ज किया गया पारा कोकेरनाग के औसतन टेम्परेचर से 1.7°C ज्यादा था. 

मौसम विभाग के मुताबिक नॉर्थ कश्मीर के कुपवाड़ा में भी रविवार रात पारा 2.2°C दर्ज किया गया जोकि शनिवार रात  1.1°C था. जोकि कुपवाड़ा के औसतन तापमान से  0.2°C ज्यादा है.

जम्मू में भी रातें ठंडी होती जा रही हैं. रविवार रात मिनिमम टेम्परेचर 6.1°C जोकि शनिवार को 7.1°C था. बता दें कि रविवार रात दर्ज किया गया मिनिमम टेम्परेचर शहर के औसतन टेम्परेचर से 2.8°C कम रहा. 

ऐसे में मौसम विभाग के मुताबकि आने वाली 22 दिसंबर तक मौसम नॉर्मल रहेगा. लेकिन 23 दिसंबर को बादल छाए रहे सकते हैं जिनकी वजह से घाटी के ऊपरी इलाकों में हल्की बारिश देखी जा सकती है. जिसका बाद 24-28 दिसंबर तक का मौसम नॉर्मल रहने वाला है. 

Latest news

Powered by Tomorrow.io