AIIMS Jammu : फरवरी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी करेंगे उद्घाटन; इस दिन शुरु होगी ओपीडी

AIIMS JAMMU : खबर सामने आई है कि एम्स विजयपुर में ओपोडी 18 फरवरी से शुरू कर दी जाएगी. यही नहीं, जानकारी ये भी मिली है कि पीएम मोदी इसका उद्घाटन कर सकते हैं. शुक्रवार को पत्रकारों से बात करते हुए इस बात ऐलान संस्थान के डारेक्टर डॉ. शक्ति गुप्ता ने किया है. 

AIIMS Jammu : फरवरी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी करेंगे उद्घाटन; इस दिन शुरु होगी ओपीडी

जम्मू कश्मीर :   जम्मू कश्मीर के लोगों के लिए एक बड़ी खुशखबरी आई है. जम्मू एम्स में 18 फरवरी से मरीज़ों के लिए ओपीडी शुरु कर दी जाएगी. बता दें कि अब से करीब 3 साल पहले जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस एम्स की नींव रखी थी, तभी से इसको लेकर लोगों में बेसब्री पैदा हो गई थी. लोग इस अस्पताल के इंतज़ार में बैठे थे कि कब ये अस्पताल बनेगा और कब इसमें मरीज़ों के लिए ओपीडी की सुविधा शुरू की जाएगी. 

और अब खबर सामने आई है कि एम्स विजयपुर में ओपोडी 18 फरवरी से शुरू कर दी जाएगी. यही नहीं, जानकारी ये भी मिली है कि पीएम मोदी इसका उद्घाटन कर सकते हैं. शुक्रवार को पत्रकारों से बात करते हुए इस बात ऐलान संस्थान के डारेक्टर डॉ. शक्ति गुप्ता ने किया है. 

डॉ. गुप्ता ने कहा कि, 'एम्स में 30 जनरल और 20 सुपर स्पेशियलिटी डिपार्टमेंट हैं. पहले चरण में करीब 30 से ज्यादा जनरल और सुपर स्पेशियलिटी डिपार्टमेंट में ओपीडी सेवाएं शुरू की जा रही हैं. इसके साथ ही जिला स्तर के मरीजों को उचित मेडिकल सर्विस देने के मकसद से टेलीमेडिसिन फैसिलिटी भी शुरू की जा रही है. इसके अलावा, जो मरीज ऑनलाइन अप्यांटमेंट लेकर आएंगे, उन्हें सीधे संबंधित डाक्टर के पास भेजा जाएगा. 

डॉ. गुप्ता ने आगे बताया कि, 'पहले चरण में एम्स में इमरजेंसी सर्विस शुरू नहीं की जाएंगी. सभी जरूरी इक्विपमेंट्स और सफिशिएंट फैकल्टी और अन्य स्टाफ की तैनाती के बाद अगले छह महीने में एम्स पूरी तरह से काम करने लग जाएगा.' 

उन्होंने बताया कि एम्स की करीब 500 नर्सों को दिल्ली एम्स में अलग-अलग मेडिकल क्षेत्रों में ट्रेनिंग दी गई है. 187 क्रिएटिड पोस्ट्स में से 85 फैकल्टी मैंबर्स का अपॉइंटमेंट कर लिया गया है और बाकी की भर्ती जारी है. उधर, एम्स में सुरक्षा के लिए 100 प्रतिशत स्थानीय एक्स सर्विसमैन की नियुक्ति करने की बात कही है. और अगर जगह बची तो दूसरे प्रदेश के लोगों को मौका मिलेगा. 

यूं समझिए की, एम्स रेफरल अस्पताल के रूप में काम करेगा, जिसमें गंभीर मरीजों को प्राथमिकता दी जाएगी. र जिले को टेलिमेडिसिन सेवा से जोड़ने का प्रयास किया जाएगा. 

आपको बता दें कि एम्स की मेडिकल फेसिलिटीज़  जम्मू-कश्मीर के साथ लेह लद्दाख, पंजाब और हिमाचल प्रदेश के मरीजों को भी फायदा मिलेगा. 

Latest news

Powered by Tomorrow.io