नए साल में वैष्णो देवी जाने का है प्लान, तो जान लें श्राइन बोर्ड का ये नया नियम

श्राइन बोर्ड ने भक्तों के लिए ये नया नियम बनाया है जिसके मुताबिक भक्तों को स्टीकर युक्त RFID कार्ड मुहैया कराया जाएगा जिससे पता चल सकेगा कि वो कार्ड नया है या फिर पुराना. ये फैसला श्राइन बोर्ड ने भक्तों की भीड़ के मद्देनज़र किया है.

नए साल में वैष्णो देवी जाने का है प्लान, तो जान लें श्राइन बोर्ड का ये नया नियम

जम्मू कटरा Vaishno Devi : नए साल में माता वैष्णो के भक्तों के आरएफआईडी (RFID)कार्ड पर स्टीकर लगना अनिवार्य है, नही तो दर्शन करना होगा मुश्किल. जीहां, अगर आप नए साल के मौक पर माता वैष्णो देवी के दर्शन करने की प्लानिंग कर रहें हैं तो श्राइन बोर्ड के इस नए नियम के बारे में जानना आपके लिए बेहद जरूरी है वर्ना आप मुसीबत में फंस सकते हैं. 

दरअसल श्राइन बोर्ड ने भक्तों के लिए ये नया नियम बनाया है जिसके मुताबिक भक्तों को स्टीकर युक्त RFID कार्ड मुहैया कराया जाएगा जिससे पता चल सकेगा कि वो कार्ड नया है या फिर पुराना. ये फैसला श्राइन बोर्ड ने भक्तों की भीड़ के मद्देनज़र किया है. 

एक प्रेस कांग्रेस के दौरान श्राइन बोर्ड के सीईओ अंशुल गर्ग ने इस बात की जानकारी साझा की है. और कहा है कि इस साल 30 दिसंबर 2023 तक करीबन 95 लाख भक्त माता के दर्शन के लिए हाज़िरी लगा चुके हैं जो पिछले साल से करीब 3 लाख ज्यादा है. ऐसे में भक्तों की भीड़ को काबू में करने के लिए ये फैसला लिया गया है ताकि भवन तक जाने में भक्तों की ज्यादा भीड़ इकट्ठा न हो और आसानी से दर्शन भी हो सकें. 

अंशुल गर्ग ने आगे कहा कि कटरा से लेकर भवन तक क्षेत्र को 6 सेक्टर में बांटा गया है. हर सेक्टर की जिम्मेदारी डिप्टी सीईओ श्राइन बोर्ड अधिकारी के पास रहेगी. वही, भवन परिसर के 500 मीटर के क्षेत्र को 5 सेक्टर में बांटा गया है. हर 100 मीटर के सेक्टर की जिम्मेदारी श्राइन बोर्ड अधिकारियों और सुरक्षाबलों के पास रहेगी.

उन्होंने आगे कहा कि नेशनल ग्रीन ट्रिब्युनल्स यानी कि एनजीटी के आदेशों पर रोज़ाना 50,000 से ज्यादा भक्त भवन की तरफ प्रस्थान नहीं कर सकेंगे. इशके बाद कटरा पर भक्तों को रोका जाएगा. यही नहीं, मां वैष्णो देवी भवन के साथ ही कटरा सहित सभी रास्तों पर सुरक्षाबलों के साथ पुलिस विभाग की एडिशनल कंपनियां तैनाती की गई है. साथ ही ड्रोन के जरिए भी निगरानी की जाएगी. 

और अब किसी वजह से वैष्णो देवी यात्रा के दौरान भक्तों की भारी भीड़ उमड़ भी जाती है तो उसको लेकर भी भवन मार्ग के मुख्य स्थानों पर भक्तों को रोका जा सकता है. इनमें बाणगंगा क्षेत्र, अर्द्धकुंवारी मंदिर क्षेत्र, सांझी छत, हिमकोटी तथा भवन पर मनोकामना भवन परिसर शामिल है. 

तो ऐसे में अब आप वैष्णो देवी जाने की प्लानिंग कर रहें हैं तो मौसम के अपडेट के साथ श्राइन बोर्ड के इस नियम को भी अच्छे से समझ लें तभी दर्शन के लिए अपने घर से रवाना हो नही तो बेमतलब आप मुश्किल में फंस जाएंगे. 
 

Latest news

Powered by Tomorrow.io