Ramban VBSY: रामबन के लोगों ने 'मेरी कहनी, मेरी जबानी' के तहत मिले सरकारी फायदे बताए...

Viksit Bharat Sankalp Yatra: इस प्रोग्राम में लोकल नौजवानों और तलबा ने भी बढ़ चढ़ कर हिस्सा लिया और अलग-अलग महकमों की तरफ से चलाई जा रही स्कीमों की जानकारी हासिल की. इस दौरान यात्रा के चीफ गेस्ट ने स्थानीय लोगों और स्टूडेंट्स से मुलाकात कर इन स्कीमों से फायदा उठाने की सलाह दी.

Ramban VBSY: रामबन के लोगों ने 'मेरी कहनी, मेरी जबानी' के तहत मिले सरकारी फायदे बताए...

Jammu and Kashmir: जम्मू-कश्मीर में बॉर्डर के इलाकों की तस्वीर बदलने के लिए शुरू हुई विकसित भारत संकल्प यात्रा जारी है. जोकि इस वक्त रामबन जिले के गूल ब्लॉक के मुख्तलिफ पंचायतों से गुजर रही है. बीते दिनों ये यात्रा वैन कलिमस्ता पंचायत में थी. जहां इसका मकामी लोगों और पंचायत मेम्बरान ने जोरदार स्वागत किया था. 

वहीं, इस मौके पर अलग-अलग कार्यक्रमों का भी आयोजन किया गया. जिसकी शुरूआत इस मकसद के साथ हुई कि 2047 तक भारत को विकसित राष्ट्र बनाना है. इसको लेकर, पावर डेवलपमेंट डिपार्टमेंट के सेक्रेटरी रमन कुमार केसर ने यहां के लोगों से देश को विकसित बनाने का वादा लिया. 

गौरतलब है कि इस प्रोग्राम में लोकल नौजवानों और तलबा ने भी बढ़ चढ़ कर हिस्सा लिया और अलग-अलग महकमों की तरफ से चलाई जा रही स्कीमों की जानकारी हासिल की. इस दौरान यात्रा के चीफ गेस्ट ने स्थानीय लोगों और स्टूडेंट्स से मुलाकात कर इन स्कीमों से फायदा उठाने की सलाह दी. 

बाद में प्रोग्राम के आखिर में 'मेरी कहनी, मेरी जबानी' प्रोग्राम के तहत सरकारी स्कीमों से फायदा उठा चुके लोगों ने अपने अनुभव शेयर किए. आपको बता दें कि विकसित भारत संकल्प यात्रा अब तक घाटी की 132 पंचायतों से गुजर चुकी है.

जम्मू-कश्मीर में बॉर्डर के इलाकों की तस्वीर बदलने के लिए शुरू हुई विकसित भारत संकल्प यात्रा जारी है. जोकि इस वक्त रामबन जिले के गूल ब्लॉक के मुख्तलिफ पंचायतों से गुजर रही है. बीते दिनों ये यात्रा वैन कलिमस्ता पंचायत में थी. जहां इसका मकामी लोगों और पंचायत मेम्बरान ने जोरदार स्वागत किया था. 

वहीं, इस मौके पर अलग-अलग कार्यक्रमों का भी आयोजन किया गया. जिसकी शुरूआत इस मकसद के साथ हुई कि 2047 तक भारत को विकसित राष्ट्र बनाना है. इसको लेकर, पावर डेवलपमेंट डिपार्टमेंट के सेक्रेटरी रमन कुमार केसर ने यहां के लोगों से देश को विकसित बनाने का वादा लिया. 

गौरतलब है कि इस प्रोग्राम में लोकल नौजवानों और तलबा ने भी बढ़ चढ़ कर हिस्सा लिया और अलग-अलग महकमों की तरफ से चलाई जा रही स्कीमों की जानकारी हासिल की. इस दौरान यात्रा के चीफ गेस्ट ने स्थानीय लोगों और स्टूडेंट्स से मुलाकात कर इन स्कीमों से फायदा उठाने की सलाह दी. 

बाद में प्रोग्राम के आखिर में 'मेरी कहनी, मेरी जबानी' प्रोग्राम के तहत सरकारी स्कीमों से फायदा उठा चुके लोगों ने अपने अनुभव शेयर किए. आपको बता दें कि विकसित भारत संकल्प यात्रा अब तक घाटी की 132 पंचायतों से गुजर चुकी है...

Latest news

Powered by Tomorrow.io