छठे गुरु, गुरु हरगोबिंद के नाम पर रखा गया "गुरुद्वारा छठी पातशाही"

श्रीनगर शहर भारत के लगभग सभी धर्मों के लिए तीर्थ यात्रा प्रदान करता है, यह गुरुद्वारा हरि पर्वत किले (दक्षिण गेट) के बाहर, शहर के काफी बीच में स्थित है, ये तीर्थस्थल 6 वें सिख गुरु का है, जो कश्मीर आए थे और इस जगह पर प्रचार किया था, हालांकि ये जगह इतने लोगो को पता नहीं है, फिर भी इसमें आकर्षण और सादगी है।

छठे गुरु, गुरु हरगोबिंद के नाम पर रखा गया "गुरुद्वारा छठी पातशाही"

श्रीनगर शहर भारत के लगभग सभी धर्मों के लिए तीर्थ यात्रा प्रदान करता है, यह गुरुद्वारा हरि पर्वत किले (दक्षिण गेट) के बाहर, शहर के काफी बीच में स्थित है, ये तीर्थस्थल 6 वें सिख गुरु का है, जो कश्मीर आए थे और इस स्थान पर प्रचार किया था, हालांकि ये जगह इतने लोगो को पता नहीं है, फिर भी इसमें आकर्षण और सादगी है।

हरि पर्वत किले के दक्षिणी द्वार के ठीक बाहर मौजूद है "गुरुद्वारा छठी पातशाही", यह ऐतिहासिक गुरुद्वारा कश्मीर घाटी के श्रीनगर शहर के टूरिस्ट प्लेस में शामिल है, ये गुरुद्वारा छठी पातशाही, काठी दरवाज़ा, रेनवाड़ी, श्रीनगर में है...

कुछ दिनों तक सिख धर्म के छठे गुरु ने कश्मीर की यात्रा की, कभी-कभी उपदेश देने के लिए रुकते थे, ये गुरुद्वारा श्रीनगर, झेलम नदी और डल झील के तट पर जिस जगह गुरु नानक देव जी और गुरु हरगोबिंद जी  ने भी दौरा किया था,
कुछ स्रोत गुरु हर राय की यात्रा को भी बताते है, इस ऐतिहासिक सिख मंदिर का नाम अकेले गुरु हरगोबिंद के नाम पर रखा गया है, जो कि छठी पातशाही या छठे मास्टर हैं,

लंबे समय से गुरु की एक झलक पाने के लिए तरस रहे थे, जब गुरु हरगोबिंद ने उनकी यात्रा और अब मशहूर  गाउन पहनकर उनकी ख्वाहिश पूरी की, यह माई भागभरी के घर के जगह पर हरि परबत क़िले के काठी गेट के बाहर स्थित है

कहा जाता है कि पास के एक पुराने कुएं को गुरु हरगोबिंद के हुक्म पर खोदा गया था, गुरुद्वारे में बीच में गर्भगृह के साथ एक आयताकार हॉल और सामने एक विशाल छत है, लंगर और रुकने की सुविधा चौबीसों घंटे उपलब्ध है, हाल ही में एक बड़ा गुरुद्वारा भवन बनाया गया है.
पवित्र यात्रा को चिह्नित करने के लिए, हर साल गुरु हरगोबिंद साहिब के प्रकाश उत्सव पर जम्मू और कश्मीर सरकार ("जम्मू और कश्मीर") द्वारा सार्वजनिक अवकाश होता है। पंजाब के बाहर, जम्मू-कश्मीर एकमात्र राज्य है जहां छठे नानक गुरु हरगोबिंद साहिब के प्रकाश उत्सव पर राजपत्रित सरकारी अवकाश है।

स्थान: 

नौहट्टा, श्रीनगर, जम्मू और कश्मीर 

समय :

24 घंटे

कैसे पहुंचे "गुरुद्वारा छठी पातशाही":
 
एयरपोर्ट से, यह 14 किमी दूर स्थित है और टैक्सी और पब्लिक ट्रांपोर्ट से यहाँ आसानी से पहुँचा जा सकता है 
गुरुद्वारा शहर के केंद्र से सिर्फ 4 किमी की दूरी पर है।

Latest news

Powered by Tomorrow.io