J&K Tourism: साल 2023 में कश्मीर पहुंचे रिकार्ड तोड़ संख्या में टूरिस्ट...

Record Breaking Tourism: टूरिज्म डिपार्टमेंट के टूरिस्ट डेटा के मुताबिक साल 2023 में LoC के करीब टूरिस्ट डेस्टिनेशन पर सवा चार लाख से ज्यादा मुल्की और विदेशी टूरिस्ट आए. इनमें तीन लाख कुपवाड़ा, 70 हजार के करीब उड़ी और गुरेज में 60 हजार के करीब टूरिस्ट पहुंचे.

J&K Tourism: साल 2023 में कश्मीर पहुंचे रिकार्ड तोड़ संख्या में टूरिस्ट...

Jammu and Kashmir: जम्मू-कश्मीर में टूरिस्ट्स की आमद ने साल 2023 में अब तक के सारे पुराने रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं. आपको बता दें कि LoC के करीब टूरिस्ट्स के जाने पर लगी पाबंदी हटने के बाद कुपवाड़ा, बांदीपोरा और बारामूला के सरहदी इलाकों में भी इस साल रिकॉर्ड तादाद में टूरिस्ट पहुंचे. 

वहीं, टूरिज्म डिपार्टमेंट के टूरिस्ट डेटा के मुताबिक साल 2023 में LoC के करीब टूरिस्ट डेस्टिनेशन पर सवा चार लाख से ज्यादा मुल्की और विदेशी टूरिस्ट आए. इनमें तीन लाख कुपवाड़ा, 70 हजार के करीब उड़ी और गुरेज में 60 हजार के करीब टूरिस्ट पहुंचे. 

आपको बता दें कि ये सब बॉर्डर टूरिज्म को बढ़ावा देने की कोशिशों का नतीजा है. जिसकी वजह से लोलाब, माछिल, टीटवाल , टंगधार, गुरेज, तुलैल और उड़ी जैसे इलाके तेजी से बॉर्डर टूरिस्ट डेस्टिनेशन के तौर पर अपनी पहचान बना रहे हैं.

बता दें कि कभी सरहद पार से होने वाली गोलाबारी की वजह से इलाके के लोग हमेशा खौफ़ज़दा रहते थे. लेकिन आज रिकार्ड तोड़ तादाद में टूरिस्ट्स की आमद देखी जा रही है. 

जम्मू-कश्मीर में टूरिस्ट्स की आमद ने साल 2023 में अब तक के सारे पुराने रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं. आपको बता दें कि LoC के करीब टूरिस्ट्स के जाने पर लगी पाबंदी हटने के बाद कुपवाड़ा, बांदीपोरा और बारामूला के सरहदी इलाकों में भी इस साल रिकॉर्ड तादाद में टूरिस्ट पहुंचे. 

वहीं, टूरिज्म डिपार्टमेंट के टूरिस्ट डेटा के मुताबिक साल 2023 में LoC के करीब टूरिस्ट डेस्टिनेशन पर सवा चार लाख से ज्यादा मुल्की और विदेशी टूरिस्ट आए. इनमें तीन लाख कुपवाड़ा, 70 हजार के करीब उड़ी और गुरेज में 60 हजार के करीब टूरिस्ट पहुंचे. 

आपको बता दें कि ये सब बॉर्डर टूरिज्म को बढ़ावा देने की कोशिशों का नतीजा है. जिसकी वजह से लोलाब, माछिल, टीटवाल , टंगधार, गुरेज, तुलैल और उड़ी जैसे इलाके तेजी से बॉर्डर टूरिस्ट डेस्टिनेशन के तौर पर अपनी पहचान बना रहे हैं.

बता दें कि कभी सरहद पार से होने वाली गोलाबारी की वजह से इलाके के लोग हमेशा खौफ़ज़दा रहते थे. लेकिन आज रिकार्ड तोड़ तादाद में टूरिस्ट्स की आमद देखी जा रही है. 
 

Latest news

Powered by Tomorrow.io